ALL Sports Gadgets and Technology Automobile State news International news Business Health Education National news
राष्ट्रीय प्रेस दिवस-2019 के अवसर पर जिला सूचना कार्यालय में गोष्ठी का आयोजन किया गया
November 16, 2019 • मुख्य संपादक राजीव मैथ्यू

'राष्ट्रीय प्रेस दिवस-2019'' के अवसर पर जिला सूचना कार्यालय में  'रिपोर्टिंग-व्याख्या (इंटरप्रिटेशन) एक यात्रा विषय पर गोष्ठी/चर्चा का आयोजन किया गया। 

सेवा भारत टाइम्स ब्यूरो 

देहरादून l  दिनांक 16 नवम्बर 2019, ''राष्ट्रीय प्रेस दिवस-2019'' के अवसर पर जिला सूचना कार्यालय में जिला सूचना अधिकारी प्रकाश सिंह भण्डारी की अध्यक्षता में  'रिपोर्टिंग-व्याख्या (इंटरप्रिटेशन) एक यात्रा विषय पर गोष्ठी/चर्चा का आयोजन किया गया। इस अवसर जिला सूचना अधिकारी ने प्रेस दिवस की बधाई देते हुए सभी उपस्थित पत्रकारों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि पत्रकार का जीवन सदैव संघर्ष भरा होता है, जिसमें बहुत से निर्णय लेने के साथ ही जीवन में राष्ट्र एवं समाज के हित कई त्याग करते हुए मिशन के रूप में अपनी लेखनी से समाज का मार्गदर्शन करने के साथ ही आम जनमानस में पत्रकारिता विश्वास का भाव भरना होता है। 

इस कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार डाॅ वी.डी शर्मा ने अपनी बात की शुरूआत कविता के माध्यम से की '' गैर परों से उड़ सकते हो, हद से हद दीवारों तक। अम्बर पर तो वही उड़ेगा, जिसके अपने पर होगें। रोक सकी कब बाधाएं मंजिल के साहसिक पथिक को, पांव स्वयं ही चल पड़ते हैं, मन का केवल वैग चाहिए।'' उन्होंने कहा कि पत्रकारिता की विश्वसनीयता घट रही है। समय बदला तथा आधुकीकरण होने के साथ ही टी.टी पत्रकारिता अर्थात टेबल, टेलीफोन पत्रकारिता चलन में आई है, जो खबरे एवं लेख पहले विश्वसनीय होते थे उनकी विश्वसनीयता पर प्रश्न चिन्ह लगा है, जो कि चिन्तन का विषय है।  

कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार संजय पाठक ने अपने विचार रखते हुए पत्रकारिता में अपनी रिर्पोटिंग में सभी पहलुओं को ध्यान में रखने एवं पत्रकारिता को मिशन के रूप में लेते हुए तटस्थ होकर कार्य करने की आवश्यकता पर बल दिया। वरिष्ठ पत्रकार नरेश रोहिला ने पत्रकारिता में सभी पहलुओं की गम्भीरता को ध्यान में रखते हुए एक पक्षीय पत्रकारिता से बचने तथा पत्रकारिता में भी सुधार एवं अफवाहों से सतर्क होते हुए विश्वसनीय पत्रकारिता पर बल दिया।  गोष्ठी में उपस्थित वरिष्ठ पत्रकार राजकमल गोयल ने पत्रकारिता ने कहा कि आधुनिक समय में पत्रकारिता के लिए तकनीकी फायदे एवं नुकसान दोनों है कुछ विषय देश एवं समाज की सुरक्षा से जुड़े होते हैं, जिस पर मीडिया को अनावश्यक हस्तक्षेप नही करना चाहिए तथा ऐसे विषयों पर संभलकर लिखते हुए पत्रकारिता की विश्वसनीयता को बनाये रखने का प्रयास होना चाहिए। इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार तिलकराज, घनश्याम चन्द्र जोशी, अरूण कुमार मोगा, दीपक धीमान जोशी,  मनीष जैन ने भी अपने विचार रखे। इस अवसर पर कार्यालय के कार्मिक भी उपस्थित थे।