ALL Sports Gadgets and Technology Automobile State news International news Business Health Education National news
निर्भया कांड के दोषियों को फांसी की सजा 20 मार्च को तय
March 6, 2020 • मुख्य संपादक राजीव मैथ्यू

निर्भया कांड के दोषियों को फांसी की सजा 20 मार्च को तय

नई दिल्‍ली । वर्ष 2012 के निर्भया कांड के दोषियों की फांसी की  तारीख  का फैसला हो गया है। दिल्‍ली की पटियाला हाउस  अदालत ने दोषियों की फांसी के लिए 20 मार्च की तिथि निर्धारित की है। निर्भया के दोषियों की फांसी के लिए यह अंतिम तिथि है। चारों दोषियों पवन गुप्‍ता, अक्षय ठाकुर, विनय शर्मा, मुकेश को 20 मार्च को सुबह 5.30 बजे फांसी दी जाएगी। कोर्ट के नियमों के मुताबिक सभी दोषी अपने वकीलों से मिल सकेंगे।

इस ताजा डेथ वारंट पर दोषियों के वकील एपी सिंह ने कहा कि चार बार दोषियों की न्‍यायिक हत्‍या की जा चुकी है। कितनी बार दोषियों की न्‍यायिक हत्‍या की जाएगी। 

निर्भया की मां आशा देवी ने कोर्ट के आदेश पर खुशी जताई है। उन्‍होंने कहा कि अभी ये दोषी फांसी को टालने के लिए कोई और पैतरा अपना सकते हैं। हर चीज का एक अंत होता है और फाइनली उन्‍हें नए डेट पर फांसी दी जाएगी। जब तक दोषियों को फांसी नहीं हो जाती मैं हार नहीं मानूंगी। हर पल मैं लड़ने के लिए तैयार हूं। अब इन दोषियों को राहत नहीं मिलेगी। मेरी जीत उस दिन होगी जब ये चारों दोषी फांसी पर लटक जाएंगे।

तिहाड़ जेल प्रशासन की ओर से सरकारी वकील इरफान अहमद ने अदालत में यह आवेदन दिया। कहा कि दोषियों के लिए सभी कानूनी विकल्प खत्म हो गए हैं और अब कानूनी उपचार का कोई विकल्प नहीं बचा है। उन्होंने अदालत से कहा कि दोषियों को नोटिस देने की कोई जरूरत नहीं है। सरकार के इस तर्क से अदालत सहमत नहीं हुई। दोषियों को नोटिस जारी करते हुए सेशन जज राणा ने कहा कि प्राकृतिक न्याय का सिद्धांत संविधान के अनुच्छेद 21 (जीवन का अधिकार और व्यक्तिगत स्वतंत्रता) का हिस्सा है और दूसरे पक्ष को सुने जाने को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।

निर्भया गैंगरेप के चार दोषियों में शामिल पवन गुप्ता की भी दया याचिका राष्ट्रपति के पास से खारिज होने के बाद अब तिहाड़ जेल प्रशासन उन्हें फांसी पर लटकाने के लिए पूरी तरह से तैयार है। बटर लगी 10 रस्सी तिहाड़ की जेल नंबर-3 में सुरक्षित रखवा दी गई हैं। इन रस्सियों पर ट्रायल भी किया जा चुका है। इस बीच दोषियों की निगरानी और अधिक बढ़ा दी गई है। यह निगरानी केवल इसलिए बढ़ाई जाती है कि कहीं इन चारों में से कोई एक या चारों कानूनी रूप से फांसी पर लटकाने से पहले अपने आप आत्महत्या न कर लें या फिर जेल से भागने की कोशिश न करें।