ALL Sports Gadgets and Technology Automobile State news International news Business Health Education National news
हाथियों के आतंक से निजात दिलाने को किसानों ने दिया धरना
December 4, 2019 • मुख्य संपादक राजीव मैथ्यू

हाथियों का आतंक

काश्तकारों का जीना मुहाल हुआ है गांव में असुरक्षा का माहौल व्याप्त

(फोटो :चौराहे पर धरना देते काश्तकार)

सेवा भारत टाइम्स

हाथियों के आतंक से निजात दिलाने को हल्दूचौड़ क्षेत्र के काश्तकारों ने दिया धरना
हल्दूचौड़ लाल बहादुर शास्त्री स्वरोजगार एवं जन कल्याण समिति के तत्वावधान में आज क्षेत्र के सैकड़ों गन्ना काश्तकारों ने मुख्य चौराहे पर धरना दिया इस दौरान तहसीलदार के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर प्रभावित काश्तकारों को मुआवजा तथा हाथियों का आतंक रोकने के लिए ठोस समाधान किए जाने की मांग की गई पूर्व मंत्री हरीश चंद्र दुर्गापाल वरिष्ठ नेता एन के कपिल हरेंद्र बोरा ने कहा कि क्षेत्र के काश्तकार जंगली जानवरों के आतंक से परेशान हैं आए दिन गंभीर घटनाएं घटित हो रही है काश्तकारों का जीना मुहाल हुआ है गांव में असुरक्षा का माहौल व्याप्त है इस संबंध में शासन प्रशासन और वन विभाग को अवगत कराने के बाद भी कोई ठोस प्रयास नहीं किया गया है वक्ताओं ने स्थानीय विधायक पर भी क्षेत्र की उपेक्षा किए जाने का आरोप लगाया इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि जंगली जानवरों के आतंक के साथ-साथ आवारा पशुओं का भी आतंक क्षेत्र में मंडरा रहा है और आए दिन इन आवारा जानवरों के चलते क्षेत्र में दुर्घटनाओं का अंदेशा बना रहता है लेकिन इसकी रोकथाम के कोई ठोस इंतजाम अब तक नहीं किए गए हैं वक्ताओं ने कहा कि आज क्षेत्र में तमाम प्रकार की समस्याओं का अंबार लगा हुआ है लोगों में एक निराशा और आक्रोश का माहौल है असुरक्षा की भावना पैदा हुई है ऐसे में जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों को शासन प्रशासन को तथा संबंधित विभाग को ठोस पहल की जानी चाहिए वक्ताओं ने चेतावनी दी कि यदि उनकी समस्या का जल्द समाधान नहीं हुआ तो आंदोलन छेड़ दिया जाएगा इस दौरान उमेश कबडवाल कैलाश दुमका बीडी खोलिया राजेन्द्र दुर्गापाल हेमवती नंदन दुर्गापाल ललित सनवाल हरेंद्र असगोला हेम दुर्गापाल , रमेश जोशी , पीतांबर दुम्का , नवीन भट्ट भास्कर भट्ट शिवदत्त दुमका शंकर लाल महेश चंद्र खोलिया श्रील चंद्र खोलिया रमेश तिवारी दया किशन बमेटा दया किशन कबडवाल दया किशन जोशी राहुल बमेटा विपिन सनवाल , घनानंद भट्ट, विमला देवी,भगवती, कमला मिश्रा , लक्ष्मी ,हेम दुम्का समेत सैकड़ों गन्ना काश्तकार मौजूद थे ।