ALL Sports Gadgets and Technology Automobile State news International news Business Health Education National news
वृक्षमित्र डॉ त्रिलोक चंद्र सोनी
September 17, 2019 • seva bharat times

उत्तराखण्ड के पर्यावरणविद वृक्षमित्र डॉ त्रिलोक चंद्र सोनी जन्मदिन पर पौधे लगवाने का 22 सालों का संघर्ष।

(फोटो :-पर्यावरणविद वृक्षमित्र डॉ त्रिलोक चंद्र सोनी)

 

देहरादून l  जन्मदिन पर पौधारोपण की मुहिम देश के जन जन तक पहुचने लगी  है क्योंकि केंद्रीय कृषि मंत्रालय के अधीनस्थ देश में  सात सौ ,एवं कृषि विज्ञान केंद्र साढ़े सात लाख पौधों का रोपण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन पर पौधारोपण करेगा। इस मुहिम से जन जन में अपने जन्मदिन व यादगार पलो के रूप में एक एक पौधा लगाने की जागरूकता आई  डॉ सोनी के  22 सालों की पौधारोपण की मुहिम से 

पर्यावरणविद वृक्षमित्र डॉ त्रिलोक चंद्र सोनी ने प्रधानमंत्री को जन्मदिन की बधाई व शुभकामनाएं दी।

पर्यावरणविद वृक्षमित्र डॉ त्रिलोक चंद्र सोनी कहते हैं कि जन्मदिन पर पौधा लगाने का विजन पहाड़ो के कन्दराओं से निकला उनका 22 सालों का त्याग, समर्पण है। जब वे  जन्मदिन पर पौधा लगाने की बात करते थे लोग उसे मरे हुए व्यक्ति के स्मृति से जोड़ते थे। कई ने तो यह भी कहा जिन्दे आदमी की याद में  पौधे कौन लगाता हैं। पौधा तो मरे आदमी के स्मृति में लगाते हैं। तब उन्होंने अपने जन्मदिन पर पौधा लगाना शुरू किया।

फिर अपने बच्चों के जन्मदिन पर ताकि लोग जन्मदिन पर पौधा लगाए। जन्मदिन पर पौधे लगाने के पीछे उनका मन्तव्य पौधों को भावनाओ से जुड़कर लगाये रोपित पौधों का संरक्षण करना था। किसी की स्मृति में पौधे लगाने के नजरिये  को बदल कर जन्मदिन पर पौधे लगाने से जोड़ना था। तब उन्होंने इसे खास यादगार पलो को जन्मदिन, नामकरण, अन्नप्राशन, जन्म, चूड़ाकर्म, चल अचल संपत्ति खरीद, नियुक्ति, पदोन्नति, सेवानृवित से जोड़ा ताकि लोग पौधारोपण करने लगे। उनके लिए सबसे खुशी की बात यह है कि जन्मदिन पर पौधा लगाने का कार्यक्रम उन्होंने चलाया हैं और आज देश के प्रधानमंत्री के जन्मदिन पर पौधारोपण किया जा रहा हैं। उन्हें खुशी हैं कि आज केंद्रीय कृषि मंत्रालय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन पर पौधे लगा रहे हैं। इस पौधारोपण से लोगो का वो नजरिया बदलेगा जो कहते थे मरे आदमी की स्मृति में पौधे लगाते हैं। उनका प्रयास रहा है कि हम अपने व अपनो की यादे पौधे के रूप में समाज मे यादगार पलो को जिंदा रखकर आनेवाले पीढ़ी के लिए प्रेरणास्रोत बनाये।