ALL Sports Gadgets and Technology Automobile State news International news Business Health Education National news
 ग्रहों को अपने अनुकूल करने वाली कुछ बातें l
August 20, 2019 • seva bharath times Rajeev Mathew

      ग्रहों को अपने अनुकूल करने वाली कुछ बातें l

                           

 

  सेवा भारत टाइम्स ब्यूरो  20/08 /2019 

सुबह "ब्रह्म मुहूर्त" में उठे

निम्नलिखित कार्य करे उस दिन के लिए आप के सभी ग्रह अनुकूल हो जायेंगे और दिन भर एक दिव्य शक्ति की अनुभूति होती रहेगी

सुबह उठ कर सबसे पहले अपने "माँ बाबू जी " के चरण सपर्श करे उस दिन के लिए "सूर्य चन्द्र" बहुत ही शुभ फल देंगे रोजाना शुभ फल चाहते हो तो रोज यह कार्य जरूर करें

एक गिलास गर्म पानी पियें जल(चन्द्र) का यह प्रवाह आपके शरीर की सारी नसों को खोल देगा 

दांत सफाई करके घर से निकल कर सैर करने जाए और घास पर नंगे पाँव चले इससे आप का "बुध" बलवान होगा

सैर पर आप अपनी पत्नी को भी ले जाएँ "पत्नी" साथ होगी तो सुबह की सैर का "लुत्फ़" ही कुछ और होगा (थोडा सा रोमानी हो जाए )दिन भर स्फूर्ति रहेगी तो "शुक्र" का रोमांस भी आप के साथ होगा
|
घर से जब चले तो साथ में कुछ खाने का सामान वगैरह लेकर जाएँ कई बार रास्ते में आवारा "कुत्ते" मिलतें है उन्हें बिस्किट  या ब्रेड  खाने को दे जिससे आप का "केतु" भी अनुकूल होगा क्योंकि "कुत्ता जाति को माना गया है कुत्ते को कभी भी न मारें  और पैर से तो कभी नहीं 

पन्द्रह बीस मिनट कसरत करें, जिम जाते हैं तो आप का "मंगल" आप को चुस्त दरुस्त रखेगा

नहाने से पहले सरसों के तेल की मालिश करें "शनि" की कमी भी दूर हो जायेगी 

नहाने के बाद श्रद्धा अनुसार पूजा पाठ से "गुरु" भी अनुकूल हो जायेंगे 

भगवान् सूर्य को जल दे "राहू" के दोष भी शांत होते हैं

गली मोहल्ले में सुबह सफाई कर्मचारी झाड़ू लगाने आता है उसे ठंडा पानी पिलाए या कुछ खिला दे "राहू" की आशीष भी मिल जायेगी 
शनिवार के दिन यदि किसी आवश्यक काम से  जा रहे हों और महिला सफाई कर्मचारी सफाई करती हुई मिल जाये तो उसे रूपए देकर नमस्कार करें. आपका कार्य अवश्य पूर्ण होगा .

अगर आप यह प्रतिदिन "नियम" से करेंगे तो जीवन में एक "अनुशासन" आएगा तो समझ ले "सूर्य" भी अनुकूल हो गया क्योंकि वक़्त की पाबंदी सीखनी है तो "सूर्य" से सीखें,सूर्य सभी ग्रहों के दोषों को हर लेता है l

 

             

        लेखक : श्री रमन भट्नागर