ALL Sports Gadgets and Technology Automobile State news International news Business Health Education National news
किट्टी कमेटियों को प्रतिबंधित करने की मांग
August 29, 2019 • seva bharat times

किट्टी कमेटियों को प्रतिबंधित करने की मांग

मोटी कमाई का लालच देकर भोली-भाली जनता का करोड़ों रुपया हड़प कर चुके हैं 

ह्यूमन राइट्स एंड आरटीआई एसोसिएशन द्वाराअवैध रूप से संचालित हो रही किट्टी कमेटियों को प्रतिबंधित करने की मांग की

 

                     

 

देहरादून l  ह्यूमन राइट्स एंड आरटीआई एसोसिएशन द्वारा आयोजित एक पत्रकार वार्ता में एसोसिएशन अध्यक्ष अरविंद शर्मा व महासचिव भास्कर चुग ने क्षेत्र में अवैध रूप से संचालित हो रही किट्टी कमेटियों को प्रतिबंधित करने की मांग की. साथ ही उन्होंने इन्वेस्टमेंट कंपनियों,  ऑनलाइन इन्वेस्टमेंट कंपनियों पर भी रोक लगाने की मांग की है l


महासचिव भास्कर चुग एवं अध्यक्ष अरविंद शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि उक्त संदर्भ में एसोसिएशन ने माननीय मानव अधिकार आयोग उत्तराखंड के समक्ष भी एक वाद दाखिल किया है जिसमें शीघ्र सुनवाई प्रारंभ होने की उम्मीद भी की जा रही है, उन्होंने बताया कि क्षेत्र में अनेक किट्टी संचालक मोटी कमाई का लालच देकर भोली-भाली जनता का करोड़ों रुपया हड़प कर चुके हैं. यही स्थिति हरबर्टपुर, डाकपत्थर,   देहरादून, डोईवाला,  ऋषिकेश, मसूरी की है. कुछ मामलों में माननीय न्यायालय द्वारा किट्टी कमेटी संचालकों को जेल भी भेजा गया है. इसी प्रकार कुछ इन्वेस्टमेंट कंपनियों, ऑनलाइन इन्वेस्टमेंट कंपनी द्वारा भी निवेशकों का मोटा धन हड़प कर लिया गया है तथा एक कंपनी संचालक को विकास नगर में भी जेल भेजा गया है l
वर्तमान में भी विकास नगर के कई बड़े व प्रतिष्ठित होटलों में किट्टी कमेटी का काला कारोबार जोर शोर से चल रहा है इनके चंगुल में अधिकतर महिलाएं आती हैं,  निश्चित रूप से वर्तमान में किट्टीचला रहे  संचालक जनता का धन हड़प कर गायब हो जाएंगे यह बात पक्की है l


प्रशासन को अवैध रूप से चल रहे इस धंधे की कई बार जानकारी दी गई है और इसे रोकने की मांग भी की गई है परंतु प्रशासन की नाक के नीचे यह अवैध कारोबार आज भी धड़ल्ले से जारी है जिस कारण माननीय मानव अधिकार आयोग के समक्ष एसोसिएशन ने वाद दायर किया है l
एसोसिएशन अध्यक्षअरविंद शर्मा  व महासचिव भास्कर चुग ने जनता से  भी अपील की है कि वे किट्टी कमेटी,  इन्वेस्टमेंट कंपनी,  ऑनलाइन इन्वेस्टमेंट कंपनी एवं अवैध एम एल एम के चक्कर में फंसकर अपनी गाढ़ी कमाई को डूबने से बचाएं l